Uncategorized

Hello world!

Hindi Blogs Network पर आपका स्वागत है। ये आपकी पहली प्रविष्टि है, आप इसे मिटा दें या एडिट कर लें। किसी प्रकार की असुविधा होने पर Support @ Hindi Blogs…

Uncategorized

एक पैर वाला कलहंस (लिथ्वानिया की लोककथा)

एक बार की बात है , एक ज़मींदार हुआ करता था. उसका एक बावर्ची था. एक दिन उसने बावर्ची को भुना हुआ कलहंस बनाने को कहा. बावर्ची ने कलहंस भूनकर…

Uncategorized

भरत पक्षी और दादुर (लिथ्वानिया की लोककथा)

इश्वर को जब भरत पक्षी बनाने का मन किया तो उन्होंने थोड़ी गीली मिटटी हवा में फेंकी , वह भरत पक्षी बनकर, ज़मीन पर पहुंची और गाना गाने लगी. शैतान…

Uncategorized

उल्लू की आँखें (लिथ्वानिया की लोक कथा)

बहुत समय की बात है जब जानवरों और पक्षिओं के पास आँखें नहीं थीं . तब एक दिन इश्वर ने उन सबको आँखें बांटने के लिए बुलाया. – जो पहले…